खुदरा विक्रेताओं के लिए इको के एईपीएस सेवाओं को अपनाने के 8 कारण

ऑनलाइन वाणिज्य का भारत के शहरी क्षेत्रों में मजबूत पकड़ के कारण खुदरा व्यापार काफी चुनौतीपूर्ण बन जाता है। ग्रामीण सेक्टर में, जहाँ कई इलाकों में अभी भी बैंको की पहुँच नहीं है, एईपीएस ऐसे छोटे खुदरा विक्रेताओं को उनके स्टोर या दुकान में मिनी बैंकिंग सेवाएं शुरू करने में मदद कर सकता है, ताकि वे अपनी आमदनी और ग्राहकों की आवाजाही में बढ़ोतरी कर सकें। आज देश में जहाँ 98 फीसदी आबादी के पास आधार कार्ड है तथा जिसमें से लगभग 30 फीसदी को उनके बैंक खातों से लिंक किया जा चुका है, ग्राहकों को आसानी से उपयोग की जाने वाली डिजिटल भुगतान पद्धति प्रदान करना वाकई एक मूल्यवर्धन कार्य होगा। नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के अनुसार, हाल की महामारी और लॉकडाउन की परिस्थितियों के परिणामस्वरूप डिजिटल मनी ट्रांसफर में 40 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है, जिसे हम आने वाले महीनों में 50 फीसदी तक बढ़ने की उम्मीद करते हैं।

आधार सक्षम भुगतान प्रणाली (एईपीएस) खुदरा विक्रेताओं के लिए उनके नियमित ग्राहकों और स्थानीय नागरिकों को आधार कार्ड और उससे संलग्न बैंक खाते के साथ, बायोमेट्रिक डिवाइस और एईपीएस सेवा पंजीकरण का उपयोग करके एटीएम सेवा प्रदान करने का एक सुरक्षित भुगतान विकल्प है।

जैसे जैसे अधिक से अधिक व्यवसाय, चाहे वे बड़े और छोटे हों, डिजिटल पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, खुदरा क्षेत्र को अपने वास्तविक स्टोर और व्यवसाय को बनाए रखने में कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। मजे की बात यह है कि अधिकांश प्रकार के खुदरा स्टोर, जैसे कि किराने की दुकान, दवा विक्रेता, मोबाइल रिचार्ज, इलेक्ट्रिकल शॉप आदि, शहरी क्षेत्रों में इसी प्रकार की चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। इसके विपरीत, भारत में ग्रामीण क्षेत्र अभी भी अपनी रोजमर्रा की खरीद के लिए ईंट और गारे से बने स्टोर पर बहुत अधिक निर्भर हैं। यदि आप एक खुदरा विक्रेता है, तो आप इको एईपीएस सेवाएं प्रदान कर सकते हैं और अपनी आमदनी को बढ़ाकर नियमित तौर पर अधिक ग्राहक प्राप्त कर सकते हैं। यदि आपको इसके बारे में कोई भी जानकारी नहीं है, तो पहले यहाँ एईपीएस पर हम एक संक्षिप्त नोट आपको प्रदान कर रहे हैं!

एईपीएस क्या है?

एईपीएस या आधार सक्षम भुगतान प्रणाली नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा दी जाने वाली एक भुगतान पद्धति है, जिसमें उपयोगकर्ता डेबिट कार्ड का उपयोग किए बिना अपने आधार कार्ड के माध्यम से नकद और बैंक लेनदेन कर सकते हैं।

 

एईपीएस के क्या फायदे हैं?

कोई भी भारतीय नागरिक जिसके पास एक वैध आधार कार्ड और इससे लिंक किया गया बैंक खाता है, निम्नलिखित तरीकों से इस एईपीएस सेवाओं का लाभ ले सकता हैः

  • अपने आधार कार्ड का उपयोग करके अपने बैंक खाते से पैसे निकाल सकते अथवा खाते में पैसे जमा कर सकते हैं
  • किसी डेबिड कार्ड/क्रेडिट कार्ड का उपयोग किए बगैर बैंक खातों से निधि हस्तांतरित कर सकते हैं
  • बैंक खाता धारक किसी भी अन्य व्यक्ति को पैसे हस्तांतरित कर सकते हैं
  • बैंक खाते की शेष राशि पता कर सकते हैं
  • ऑनलाइन शॉपिंग तथा उपयोगकर्ता बिलों का भुगतान कर सकते हैं

क्यों किसी रिटेलर को एईपीएस सेवाओं की सदस्यता लेने पर विचार करना चाहिए?

एईपीएस वह सबसे आसान भुगतान पद्धति है, जिसे रिटेलर बायोमेट्रिक डिवाइस को छोड़कर, किसी भी अतिरिक्त निवेश के बगैर, विभिन्न प्रकार की सेवा प्रदान करने हेतु उपयोग करने पर विचार कर सकता है। यहां यह बताया गया है कि क्यों एक रिटेलर को अपने स्टोर में एईपीएस सेवाओं को मूल्य संवर्धन के रूप में प्रदान करने को प्राथमिकता देनी चाहिएः

  • सुरक्षित डिजिटल भुगतान
  • सभी बैंकों के लिए उपयोग किए जा सकते हैं
  • वित्तीय समावेशन सक्षम कर सकता है और समाज के बैंकविहीन क्षेत्रों की सेवा कर सकते हैं
  • कार्ड-लेस कैश और बैंक हस्तांतरण सक्षम कर सकते हैं
  • अन्य उपयोगिता/उपयोगकर्ता भुगतान सेवाओं की प्रदेयता/मेजबानी को सक्षम कर सकते हैं
  • ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राहक अपने जन धन खाते से अपने प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के पैसे निकाल सकते हैं

यह कैसे कार्य करता है?

एईपीएस एजेंट या एक रिटेलर, जो एनपीसीआई द्वारा अनुमोदित लाइसेंस प्राप्त एईपीएस सेवा प्रदाता के साथ पंजीकृत है, वह पीओएस, वेब या मोबाइल एप, बैंक द्वारा दिए गए आईआईएन या जारीकर्ता की पहचान संख्या, आधार नंबर और बायोमेट्रिक या फिंगरप्रिंट का उपयोग करके लेनदेन को संचालित कर सकता है।

खुदरा विक्रेताओं के लिए इको के एईपीएस सेवाओं को अपनाने के 8 कारण

जब आप एक इको के एईपीएस सेवा प्रदाता रिटेलर के रूप में पंजीकृत होते हैं, तो आपको मिलने वाले प्रमुख फायदों में से कुछ निम्न प्रकार के हैं:

  • आप एईपीएस लेनदेन से आकर्षक कमीशन रूपी आय प्राप्त कर सकते हैं
  • उन्नत प्रौद्योगिकी और सुरक्षा के साथ सर्वश्रेष्ठ लेनदेन सफलता दर
  • त्वरित निधि निबटान सुविधा
  • ग्राहकों की संख्या में बढ़ोतरी होगी, जैसा कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को मुख्य व्यवसाय के अलावा मूल्य वर्धित सेवाओं से भी लाभ होगा
  • अन्य डिजिटल भुगतान सेवाएं प्रदान करने के लिए ई-वॉलेट का उपयोग कर सकते हैं
  • रिटेलर इंडो-नेपाल और इको द्वारा प्रदान की जाने वाली अन्य डिजिटल सेवाओं हेतु आसानी से अपग्रेड कर सकते हैं
  • ऑनलाइन खरीदारी और उपयोगिता भुगतान सेवाओं के लिए ईको की विस्तृत श्रृंखला तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं
  • इको इंडिया द्वारा प्रदान की जाने वाली ऋण और अन्य वित्तीय सेवाओं तक आसान पहुँच

इको एईपीएस हेतु पंजीकृत करने के लिए आपको किन दस्तावेजों की जरूरत होगी?

इको की आधार सक्षम भुगतान सेवाओं हेतु पंजीकरण करना काफी सरल है। अधिकांश डिजिटल भुगतान प्रणालियों या बैंकों के साथ, यदि कोई रिटेलर एईपीएस सेवाएं प्रदान करना चाहता है, तो उसे निम्नानुसार कुछ जरूरी विवरण प्रदान करने होंगेः

  • ईमेल आइडी
  • मोबाइल नंबर
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज़ (आकार की) फोटो

रिटेलर सीधे इन विवरणों का उपयोग करके इको कनेक्ट को डाउनलोड करके अपना पंजीकरण कर सकता है। एक बार जब ये विवरण अपलोड और सत्यापित हो जाते हैं, तो रिटेलर अपने बायोमेट्रिक डिवाइस आईडी को इको कनेक्ट के साथ पंजीकृत कर सकते हैं, और अपने ग्राहकों को एईपीएस सेवा प्रदान करना शुरू कर सकते हैं।

तो आप किसका इंतजार कर रहे हैं? इको के एईपीएस के माध्यम से अधिक कमाई करने के लिए तुरंत आगे आएं। अपने ग्राहकों को एईपीएस सेवाएं प्रदान करना शुरू करने के लिए, तुरत इको कनेक्ट ऐप्प डाउनलोड कर अभी रजिस्टर करें। अधिक जानकारी के लिए, कृपया 8448444380 पर कॉल करें या https://eko.in/products/aadhaar-banking पर जाएं।